Sarkari Job,sarkari job,sarkari result,sarkari exam,sarkariresult,sarkariexam

Sarkari Job

SARKARI JOB FIND

WWW.SARKARIJOBFIND.COM

Welcome To Sarkari Result, Sarkari Exam, (SARKARIJOBFIND.COM)

शायद आधार कार्ड के इन फायदों के बारे मे आपको भी नहीं पता होगा – जाने अभी

Adhar card ke fayde  – आधार कार्ड भारतीय सरकार की तरफ से जारी किया गया एक ऐसा आवश्यक दस्तावेज है जिससे यह प्रमाणित होता है कि आप भारतीय नागरिक है एवं इसे कहीं भी सरकारी व गैर सरकारी स्थान पर सबसे पक्का सबूत माना जाता है। केवल इतना ही नहीं इस दस्तावेज की सहायता से आप किसी भी प्रकार का लोन और बाकी योजनाओं का लाभ भी उठा सकते हैं।

Join Telegram Channel

Join Now

केवल इतना ही नहीं अब समय और टेक्नोलॉजी में इतनी बढ़ोतरी कर ली है कि आप आधार कार्ड से कहीं से भी पैसे तक निकाल सकते हैं। जाने की आवश्यकता पड़ने पर आपके पास जो सबसे अहम दस्तावेज है वह आज के समय में आधार कार्ड ही है। आज के हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ने के बाद आप यह समझ पाएंगे कि आधार कार्ड के फायदे क्या है और इसे किस प्रकार से प्रयोग किया जा सकता है।

Adhar card क्या होता है?

भारतीय सरकार यूआईडीएआई की तरफ से जारी किया गया एक ऐसा महत्वपूर्ण दस्तावेज जो यह बात साबित करता है कि प्रमाणित व्यक्ति भारत का निवासी है एवं उसकी सभी जरूरी और निजी जानकारियां इसमें निहित होती है। आज के समय में कहीं भी आइडेंटिफिकेशन या वेरिफिकेशन के लिए सबसे पुख्ता सबूत आधार कार्ड को ही माना जाता है।

आधार का पूरा नाम भारतीय विशिष्‍ट पहचान प्राधिकरण है जिसकी शुरुआत भारतीय सरकार ने वर्ष 2009 में की थी। पूरे भारत देश में आधार कार्ड को अब तक का सबसे महत्वपूर्ण दस्तावेज माना जाता है क्योंकि इसे सरकार की तरफ से सिर्फ एक बार बनाया जाता है। एक व्यक्ति के पास एक ही वास्तविक आधार कार्ड मौजूद हो सकता है। देश के सभी व्यक्ति के पास उनके आधार कार्ड के लिए एक विशेष यूनिक आईडी नम्बर दी गई है जो कभी किसी और से मेल नहीं खाती।




आधार Card के जनक कौन है?

इसकी  की शुरुआत वर्ष 2009 में हुई थी और इसका जनक नंदन नीलकेणि को माना जाता है। आपको बता दें नंदन नीलकेणि कोई साधारण व्यक्ति नहीं है बल्कि इंफोसिस co-founder और यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन रह चुके हैं।

इस आधार कार्ड का विचार सर्वप्रथम इन्हीं के बाद मस्तिष्क में आया और उन्होंने यह बात सरकार और जनता के समक्ष रखी। उनका विचार पूरे देश के लिए इतना लाभकारी सिद्ध हुआ कि आज देश का सबसे महत्वपूर्ण दस्तावेज एवं एक व्यक्ति के पास अनिवार्य काग़ज़ात आधार कार्ड का माना जाता है।

आधार की शुरुआत कब हुई थी? – आधार कार्ड की शुरुआत 1 जनवरी 2013 में हुई थी। पूरे देश भर में आधार प्रोजेक्ट नाम की एक योजना का शुरुआत किया गया और इसे 51 जिलों में लागू किया गया। इसके अतिरिक्त देश के सभी सुप्रीम कोर्ट ने आधार कार्ड को कुछ विभागों के लिए अनिवार्य बताया ताकि सभी देशवासी आधार कार्ड की महत्ता को समझे।




Adhar card ke fayde

आधार कार्ड पूरे भारत देश के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण दस्तावेज है और इसका इस्तेमाल सभी भारतवासी अपने फायदे के अनुसार करते है, आधार कार्ड से होने वाले कुछ निम्न फायदे इस प्रकार है।

  • आधार कार्ड हमारे पूरे देश के लिए पहचान पत्र के रूप में कार्य करता है।
  • यदि आप चाहे तो किसी भी सरकारी व गैर सरकारी स्थान पर आधार कार्ड को निवास प्रमाण पत्र की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • किसी भी सरकारी योजना के लिए आधार कार्ड एक सब्सिडी का काम करता है।
  • आधार कार्ड की सहायता से आप किसी भी बैंक में अपना खाता आसानी से खुलवा सकते हैं।
  • सरकार ने सभी लोगों को अपने गैस कनेक्शन को आधार कार्ड से जोड़ने का अभिप्राय किया है ताकि सब्सिडी देने में आसानी हो।
  • सरकार ने आयकर विभाग के साथ मिलकर आधार और पैन को जोड़ने का नियम भी अनिवार्य कर दिया है।
  • आधार कार्ड की सहायता से आप किसी भी म्यूच्यूअल फंड या स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट कर सकते हैं।




इसे बनवाने के लिए पात्रता

यदि आप भी भारत देश के निवासी हैं और अपने लिए आधार कार्ड बनाना चाहते हैं तो इसके लिए कुछ मुख्य पात्रताएं हैं जिनका अनुसरण करना अनिवार्य है। सर्वप्रथम आपको भारत का निवासी होना अनिवार्य है। आधार एक्ट 2016 के अनुसार ऐसी हर व्यक्ति जो साल के 12 महीने में से 182 दिन भारत में बिताते हैं वे आधार कार्ड बनवाने के लिए पात्र है।

इसे भी पड़े:

आधार कार्ड बनवाने के लिए आवश्यक दस्तावेज

यदि आप अपना आधार कार्ड बनवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए दस्तावेजों का इस्तेमाल करके बना सकते हैं।

  • यदि आपके पास वीजा या पासपोर्ट है तो इनका प्रयोग करें।
  • राशन कार्ड 
  • बैंक पासबुक 
  • पोस्ट ऑफिस पासबुक
  • निवास प्रमाण पत्र 
  • वोटर आईडी 
  • ड्राइविंग लाइसेंस
Aadhar card ke fayde
Aadhar card ke fayde




आधार कार्ड के लिए आवेदन कैसे करें

आपको बता दें भारतीय सरकार की तरफ से आधार कार्ड बनवाने के लिए किसी भी ऑनलाइन Official Website को सक्रिय नहीं किया गया बल्कि अपना आधार कार्ड बनवाने के लिए आपको किसी आधार केंद्र से ही संपर्क करना होगा। यदि आप पहली बार आधार कार्ड बनवाना चाहते हैं तो आपको एक आधार केंद्र से जाकर संपर्क करना होगा क्योंकि यहां आपसे आपके बायोमेट्रिक परिचय किया जाएगा।

एक बार जब आपने आधार कार्ड बनने के लिए आवेदन कर दिया आप अपने आधार कार्ड के आवेदन और उसके बनने की प्रक्रिया को आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी के तहत जांच कर सकते हैं। आमतौर पर एक नए आधार कार्ड को बनने में 90 से 92 दिन का समय लगता है। इस पूरी प्रक्रिया को आप अपने फोन में यूआईडीएआई वेबसाइट से आसानी से देख सकते हैं।




FAQ

Q. क्या आधार कार्ड बनवाने के लिए कोई फीस देनी होती है?

आधार कार्ड सभी भारत वासियों का अधिकार है और इसे बनवाने के लिए आपको कोई फीस नहीं देनी होती है।

Q. आधार कार्ड बनवाने के लिए आवेदन फॉर्म कहां मिलेगा?

आधार कार्ड बनवाने के लिए आवेदन फॉर्म आपको किसी भी आधार केंद्र में मिल जाएगा या फिर आप आधार कार्ड ब्लॉक से भी बनवा सकते हैं।

Q. भारत में सबसे पहला आधार कार्ड किसका बना था?

रंजना सोनवाने भारत की पहली महिला है जिनका आधार पहली बार बना था।

Q. क्या आधार कार्ड को भारत देश के बाहर भी पहचान पत्र की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है?

जी हां बिल्कुल, भारतवासी भारत देश के बाहर भी अपने आधार कार्ड को एक पहचान पत्र की तरह उपयोग कर सकते हैं।

निष्कर्ष


आज के हमारे इस लेख में हम भी आपके साथ
आधार कार्ड के फायदे  (Adhar card ke fayde) से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारियों को साझा करने का प्रयास किया। हम आशा करते हैं हमने जो भी जानकारी आपको दीदी आपके लिए लाभकारी रही होंगी। यदि आपको हमारे द्वारा प्रदान की गई जानकारियां महत्वपूर्ण लगी हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ साझा करें। यदि आपको हमारी द्वारा दी गई जानकारियों में कोई त्रुटि लगी हो तो हमें कमेंट सेक्शन में बताना ना भूले।

Disclaimer :  sarkarijobfind.com किसी भी सरकारी एजेंसी या राजनीतिक दल का प्रतिनिधित्व नहीं करता। मेरे  द्वारा प्रदान की गई जानकारी सामान्य सूचना के उद्देश्यों के लिए है और यह सार्वजनिक उपलब्ध स्रोतों पर आधारित है। किसी भी फैसले या कार्रवाई करने से पहले संबंधित सरकारी अधिकारी या विभाग से जानकारी की पुष्टि करना सदैव उचित होता है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *